यूपी के कानपुर के एक स्कूल में सुबह की प्रार्थना के दौरान इस्लामिक कलमा पढ़ने पर अभिभावकों ने आपत्ति जताई। उत्तर प्रदेश के कानपुर में फ्लोरेट्स स्कूल विवादों के केंद्र में है क्योंकि स्कूल में सभी धर्मों के छात्रों को सुबह की प्रार्थना के हिस्से के रूप में कलमा पढ़वाया जा रहा था। इस बारे में अभिभावकों को जानकारी हुई तो उन्होंने इसका विरोध किया। आरोप था कि स्कूल छात्रों पर धर्म थोप रहा है।

आपत्ति जताने वाले माता-पिता का कहना है कि मेरी पत्नी ने मुझे बताया कि बच्चा इस्लामी कलमा पढ़ रहा है। पूछताछ करने पर उसने कहा कि उसने इसे स्कूल में सीखा है। मैं स्कूल गया लेकिन एडमिन ने इसे रोकने से मना कर दिया। फिर मैंने व्हाट्सएप ग्रुप बनाया और बीजेपी के लोगों के साथ-साथ अन्य लोगों को भी बताया।

 इस विवाद के बाद हिंदू धर्म का पालन करने वाले स्कूल के प्रिंसिपल सुमित मखीजा ने कहा कि 2003 में स्थापित, स्कूल में गायत्री मंत्र का पाठ करने का एक अनुष्ठान है जो हिंदू धर्म का हिस्सा है, गुरुबानी जो सिख धर्म का हिस्सा है, और इस्लामी कविता, और सुबह की सभा में अन्य धार्मिक छंद हैं। यह प्रथा अब एक दशक से चल रही थी। हम सभी धर्मों से प्रार्थना करते हैं चाहे वह हिंदू धर्म, इस्लाम, सिख और ईसाई धर्म हो। चूंकि माता-पिता ने इस्लामिक प्रार्थना पर आपत्ति जताई, हमने इसे रोक दिया है और केवल राष्ट्रगान गाया जा रहा है।

पुलिस ने एसीएम स्तर के अधिकारी से मामले की जांच करने को कहा था। इस बीच, स्कूल अधिकारियों ने कहा है कि वे संबंधित अभिभावकों के साथ मिलकर इसे सुलझा लेंगे। कानपुर एसीपी, निशंक शर्मा ने कहा कि मामला सामने आया कि एक स्कूल में छात्रों को इस्लाम धर्म की कुछ पंक्तियां पढ़ने के लिए कहा गया। हमने स्कूल एडमिन से बात की, उन्होंने बताया कि उन्होंने सभी धर्मों की प्रार्थना पढ़ी जाती है। आपत्ति होने के बाद उन्होंने करना बंद कर दिया है।